The curse of the Nowhere Men

One thought on “The curse of the Nowhere Men”

  1. Dear Mr Om
    Your blog is very informative, and I fully agree with Brij’s commnet on why indians can’t take criticism from an NRI. I too was surprsied to know about surge of DVD/moble and wifi in india. It has been 4 years since I have been there. Pain of an NRI is best described in following article I found at BBC

    _______________________
    बड़ी मजबूरियाँ रही हैं, प्रवासी भारतीय की. जिस देश को छोड़कर आया है, वहाँ लौटने से डरता है. और जिस देश में आकर बसा है, उसे पूरी तरह अपना नहीं पाया.

    यहाँ वो अजनबी है, वहाँ वो अजनबी है.

    उसके दिल से पूछिए तो उसे वह भारत चाहिए जिसे वह छोड़कर आया था.
    और उस भारत में भी उसे वो सब चाहिए जो उसने प्रवासी जीवन व्यतीत करते हुए अर्जित किया है.
    वह एनआरआई है…. जी हाँ.. Non Returnable Indian.

    few quotes from http://www.bbc.co.uk/hindi/indepth/story/2004/01/040108_nri_achala.shtml

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.